LAW : Blog Detail
Drishti IAS द्वारा संचालित Drishti Judiciary में आपका स्वागत है







कॅरियर के विविध विकल्प : कानून, सिविल सेवाएँ और आगे की राह

   »
   14-Sep-2023 | शौनक रॉय



भारत में आज युवाओं के लिये उपलब्ध व्यवसायों की व्यापकता और गहनता प्रेरणादायक व अभिभूत करने वाली है। चाहे वह कानूनी गलियारों का आकर्षण हो, सिविल सेवाओं की चुनौती हो, प्रौद्योगिकी की उभरती दुनिया हो या कला और विज्ञान के प्राचीन लेकिन प्रासंगिक क्षेत्र हों, देश विभिन्न प्रतिभाओं तथा जुनून के अनुरूप ढेर सारे मार्ग प्रदान करता है।

हालाँकि, अपनी रुचियों के विस्तार से चुनौतियाँ भी आती है। छात्रों और युवा पेशेवरों को इस निर्णय से जूझते हुए देखना असामान्य नहीं है, उन्हें पता होना चाहिये कि किस राह पर चलना है। बिना सोचे-समझे लिया गया कॅरियर निर्णय न केवल व्यक्तिगत असंतोष का कारण बन सकता है बल्कि किसी की विकास क्षमता में भी बाधा उत्पन्न कर सकता है। यहीं पर किसी के झुकाव, योग्यता और चुने हुए क्षेत्र की संभावनाओं को समझने का महत्त्व सामने आता है।

वर्तमान में कॅरियर संबंधी विकल्प भी बदल रहे हैं, जहाँ उम्मीदवार डेटा साइंस, साइबर सुरक्षा जैसे नए क्षेत्रों में कॅरियर बना रहे हैं। इसलिये प्रौद्योगिकी के आगमन के कारण पारंपरिक कॅरियर विकल्प परिवर्तित हो गए हैं। इसने रोज़गार के नए अवसर भी खोले हैं, जिनका छात्र अनुसरण कर सकते हैं।

इस अन्वेषण में हम भारत में सबसे अधिक मांग वाले कुछ कॅरियर संबंधी विकल्पों की गहनता से जाँच करेंगे, जो उनकी पेशेवर यात्रा में शामिल लोगों के लिये अंतर्दृष्टि, मार्गदर्शन और दिशा-निर्देश प्रदान करेंगे।

कानूनी पेशे का आकर्षण:

विधि (https://www.drishtijudiciary.com/hin), जिसे प्रायः सभ्यता की मज़बूत रीढ़ माना जाता है, भारतीय समाज में एक सम्मानजनक स्थान रखता है। इस क्षेत्र का आकर्षण न केवल सत्ता और प्रतिष्ठा के साथ इसके जुड़ाव से उत्पन्न हुआ है बल्कि भारतीय कानूनी परिदृश्य को सुशोभित करने वाले कई कानूनी दिग्गजों द्वारा दी गई विरासत भी इससे संलग्न है।

भारत का कानूनी इतिहास समृद्ध रहा है। डॉ. बी.आर. अंबेडकर जैसे विचारक और न्यायविद, जिन्हें प्रायः भारतीय संविधान का मुख्य वास्तुकार माना जाता है तथा नानी पालखीवाला, जो नागरिक स्वतंत्रता की अपनी प्रभावशाली रक्षा के लिये प्रसिद्ध है, ने एक अमिट छाप छोड़ी है। उनके योगदान ने देश के सामाजिक-राजनैतिक ढाँचे को आकार देने में कानूनी बिरादरी को एक शक्तिशाली देश बनाने के लिये मार्ग प्रशस्त किया। उनके कार्यों का सार आज भी दीप्तिमान है, जो कई विभूतियों को कानून का कार्यभार संभालने के लिये प्रेरित करता है।

कानूनी पेशे में गहराई से उतरने पर जल्द ही ज्ञात हो जाता है कि क्षेत्र विशाल, विविध और जीवंत है।

  • विभिन्न मार्ग: भारत में विधिक क्षेत्र बहुआयामी है। जहाँ मुकदमेबाज़ी के पारंपरिक तरीके अपनाए जाते हैं, जो न्यायालयों में ग्राहकों का प्रतिनिधित्व करने का अवसर प्रदान करती है। कॉर्पोरेट कानून के अंतर्गत व्यावसायिक लेनदेन, विलय और अधिग्रहण को संभालने वाले पेशेवर आते हैं। बौद्धिक संपदा रचनात्मक कार्यों, नवाचारों और ट्रेडमार्क की सुरक्षा के बारे में बताती है। यह एक शिला का वह सिरा है, जिसमें पारिवारिक कानून, आपराधिक कानून, पर्यावरण कानून और जिज्ञासु दिमाग को आकर्षित करने वाले अनगिनत क्षेत्र शामिल हैं।
  • अग्रणी लॉ स्कूल : अपनी कला को निखारने के लिये, उभरते वकील सर्वोत्तम संस्थानों की तलाश करते हैं। नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी (NLU) ने अपने प्रमुख कॉमन लॉ एडमिशन टेस्ट (CLAT) के साथ स्वयं को भारत में प्रमुख लॉ स्कूलों के रूप में स्थापित किया है। अन्य संस्थानों के अतिरिक्त, सिम्बायोसिस लॉ स्कूल जैसे संस्थानों ने भी वर्ष-दर-वर्ष गुणवत्तापूर्ण कानूनी पढ़ाई के लिये अपनी एक अलग जगह बनाई है।
  • वकील बनने के चरण: कई लोगों के लिये काली पोशाक और सफेद बैंड पहनने की यात्रा CLAT परीक्षा के साथ शुरू होती है। लॉ स्कूल में पदों को सुरक्षित करने और पाठ्यक्रम पूरा करने पर उम्मीदवारों को अपने संबंधित राज्यों में बार काउंसिल में पंजीकरण कराना आवश्यक है। अखिल भारतीय बार परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद उन्हें किसी भी भारतीय न्यायालय में कानून का अभ्यास करने की अनुमति मिलती है।

लाभ तथा चुनौतियाँ:

किसी भी पेशे की तरह, कानून का क्षेत्र भी अपने लाभ एवं हानि को प्रस्तुत करता है। कानून की व्याख्या करने तथा न्याय को आकार देने की शक्ति निस्संदेह एक संतुष्टिदायक अनुभव है। वकील न्याय को कायम रखने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, यह सुनिश्चित करते हुए कि न्यायिक तुला संतुलित रहे। परिदृश्यों की विविधता निरंतर सीखने की गारंटी देती है। लेकिन इसमें कई कठिनाइयाँ भी व्याप्त हैं। न्याय की प्राप्ति के लिये प्राय: लंबे समय तक कार्य करना और ग्राहकों की मांग के साथ निरंतर आत्म-उन्नयन की आवश्यकता शामिल होती है।

सिविल सेवाएँ: राष्ट्र की रीढ़

सिविल सेवाओं ने एक सतत् और मज़बूत आधार के रूप में कार्य के साथ-साथ सहायता भी प्रदान की है तथा राष्ट्र की प्रगति को गति प्रदान की है। सिविल सेवाएँ केवल शासन के बारे में ही नहीं हैं, बल्कि ये वह ढाँचा निर्मित करती हैं जिस पर विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र कार्य करता है। आइए इन सेवाओं की जटिल दुनिया के बारे में गहराई से जानें।

सिविल सेवाओं को समझना:

IAS (भारतीय प्रशासनिक सेवा): प्राय: प्रमुख सिविल सेवा मानी जाने वाली IAS अधिकारी सार्वजनिक प्रशासन में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। वे ज़िला प्रशासन के शीर्ष पर कार्यरत होते हैं तथा राज्य एवं केंद्रीय स्तर पर नीति-निर्माण में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

IPS (भारतीय पुलिस सेवा): ये अधिकारी ज़िला एवं राज्य स्तर पर कानून व्यवस्था सुनिश्चित करते हैं। ज़िला पुलिस का नेतृत्व करने से लेकर अर्ध-सैनिक बलों का नेतृत्व करने तक, ये आंतरिक सुरक्षा बनाए रखने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

IFS (भारतीय विदेश सेवा): IFS अधिकारी वैश्विक स्तर पर भारत का प्रतिनिधित्व करते हैं। वे राजनयिक संबंधों का प्रबंधन करते हैं, अंतर्राष्ट्रीय संगठनों में कार्य करते हैं, साथ ही भारत की विदेश नीति निर्माण में भूमिका निभाते हैं।

IRS (भारतीय राजस्व सेवा): जैसा कि नाम से पता चलता है, ये अधिकारी प्रत्यक्ष तथा अप्रत्यक्ष कर एकत्र करने के लिये उत्तरदायी हैं। ये सुचारू राजस्व संग्रह सुनिश्चित करने वाले आर्थिक संरक्षक होते हैं।

अन्य सेवाएँ: उपरोक्त के अतिरिक्त, भारतीय रेलवे सेवाएँ, भारतीय डाक सेवा तथा भारतीय लेखा परीक्षा के साथ-साथ लेखा सेवा जैसी कई अन्य सेवाएँ भी सिविल सेवाओं का आधार बनती हैं।

यू.पी.एस.सी. परीक्षा: भारत की सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक का अवलोकन।

संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) विभिन्न सेवाओं में अधिकारियों की भर्ती के लिये सिविल सेवा परीक्षा (CSE) आयोजित करता है। अपनी कठिन प्रकृति के लिये जाना जाने वाली CSE भारत में सबसे चुनौतीपूर्ण परीक्षाओं में से एक है।

परीक्षा के चरण:

प्रारंभिक परीक्षा: यह एक वस्तुनिष्ठ प्रकार का प्रश्न-पत्र है साथ ही यह स्क्रीनिंग टेस्ट के रूप में कार्य करता है। इसमें दो प्रश्न-पत्र शामिल हैं: सामान्य अध्ययन और सिविल सेवा योग्यता परीक्षा।

मुख्य परीक्षा: इस चरण में नौ प्रश्न-पत्र होते हैं, जिनमें निबंध लेखन, सामान्य अध्ययन और वैकल्पिक विषय शामिल होते हैं। यह उम्मीदवारों के विश्लेषणात्मक कौशल तथा विषयगत ज्ञान का परीक्षण करता है।

साक्षात्कार: यह अंतिम चरण है जहाँ उम्मीदवारों का उनके व्यक्तित्व, योग्यता और सिविल सेवाओं के लिये उपयुक्तता के आधार पर मूल्यांकन किया जाता है।

तैयारी की रणनीतियाँ:

जहाँ कई उम्मीदवार कोचिंग संस्थानों का विकल्प चुनते हैं, वहीं उम्मीदवारों की एक बड़ी संख्या स्व-अध्ययन से भी परीक्षा में सफल होती है। आवश्यक संसाधनों में NCERT पाठ्य पुस्तकें, 'द हिंदू' जैसे समाचार पत्र और प्रत्येक विषय के लिये मानक संदर्भ पुस्तकें शामिल हैं, इसके अतिरिक्तऑनलाइन प्लेटफॉर्म, मॉक टेस्ट और पिछले वर्ष के प्रश्न पत्र भी महत्त्वपूर्ण संसाधन हैं।

एक सिविल सेवक के रूप में जीवन:

सिविल सेवकों को प्राय: अपने पूरे कॅरियर के दौरान स्थानांतरण का अनुभव होता है। चुनौतियों के बावजूद, उनकी स्थिति उन्हें समाज में ठोस परिवर्तन करने के लिये एक अद्वितीय सुविधाजनक स्थान प्रदान करती है। उन्हें नीतियों को आकार देने, महत्त्वपूर्ण निर्णय लेने और आधारभूत स्तर पर कार्य करने का अवसर प्राप्त होता है।

इसमें कोई संदेह नहीं कि सिविल सेवकों को समाज में उच्च सम्मान दिया जाता है। सामाजिक स्तर पर सत्ता, प्रतिष्ठा तथा परिवर्तन लाने की क्षमता का आकर्षण निर्विवाद है। हालाँकि, यह यात्रा चुनौतियों से रहित नहीं है। नौकरशाही की लालफीताशाही एवं राजनीतिक दबावों से निपटने से लेकर भारी ज़िम्मेदारियों तक, सिविल सेवक नाजुक परिस्थितियों से गुजरते हैं।

पारंपरिक क्षेत्र से परे: भारत में उभरते क्षेत्र

भारत (समृद्ध इतिहास और संस्कृति वाला देश) हमेशा नवाचार और अनुकूलन की भूमि रहा है। सिविल सेवा, इंजीनियरिंग और चिकित्सा जैसे पारंपरिक क्षेत्र दशकों से नौकरी परिदृश्य में प्रमुख रहे हैं लेकिन अब इसमें बदलाव देखा जा रहा है। चौथी औद्योगिक क्रांति के युग में भारत एक नए शिखर पर खड़ा है, और जोश एवं उत्साह के साथ उभरते क्षेत्रों को अपना रहा है। इससे संबंधित कुछ लोकप्रिय डोमेन:

1. डेटा साइंस और एनालिटिक्स:

सूचना के युग में डेटा नया ईंधन बन गया है। तेज़ी से डिजिटल होती अर्थव्यवस्था वाले भारत में डेटा वैज्ञानिकों और विश्लेषकों की मांग में वृद्धि देखी गई है। सरकारी और निजी दोनों ही क्षेत्र सूचित निर्णय लेने, दक्षता बढ़ाने एवं भविष्य के रुझानों की भविष्यवाणी करने के लिये डेटा एनालिटिक्स का लाभ उठा रहे हैं। 'डिजिटल इंडिया' पहल इस क्षेत्र के महत्त्व को और अधिक रेखांकित करती है। ई-गवर्नेंस से लेकर व्यवसायों द्वारा अपनी आपूर्ति शृंखलाओं को अनुकूलित करने तक, डेटा विज्ञान आधुनिक भारत में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है।

2. पर्यावरण संरक्षण:

जैसे-जैसे जलवायु परिवर्तन की चुनौतियाँ बढ़ रही हैं, पर्यावरण संरक्षण भारत में एक प्रमुख क्षेत्र के रूप में उभर रहा है। कई गैर सरकारी संगठन, ज़मीनी स्तर के संगठन और थिंक टैंक पर्यावरणीय मुद्दों के समाधान के लिये विभिन्न प्रयास कर रहे हैं। इसके अतिरिक्त भारत सरकार ने 'स्वच्छ भारत' जैसी परियोजनाएँ और नवीकरणीय ऊर्जा को बढ़ावा देने के लिये योजनाएँ शुरू की हैं। पर्यावरण के प्रति जागरूक व्यक्तियों के लिये, यह क्षेत्र वास्तविक विश्व पर प्रभाव डालने के असंख्य अवसर प्रदान करता है।

3. अंतरिक्ष और प्रौद्योगिकी:

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने हमेशा अपनी अभूतपूर्व उपलब्धियों से देश को गौरवान्वित किया है। हालाँकि भारत में अंतरिक्ष क्षेत्र में केवल इसरो की ही भूमिका नहीं है। 'स्पेस 2.0' के दौर में निजी हितधारक भी इस क्षेत्र में प्रवेश कर रहे हैं जिससे अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी और नवाचार उनके लिये अवसर का केंद्र बन गई है।

4. कृत्रिम बुद्धिमत्ता और रोबोटिक्स:

कृत्रिम बुद्धिमत्ता (Artificial Intelligence-AI) और रोबोटिक्स द्वारा वैश्विक तकनीकी परिदृश्य को नया आयाम मिल रहा है और भारत इसका अपवाद नहीं है। बेंगलुरु और हैदराबाद जैसे शहर देश के आईटी, AI अनुसंधान एवं नवाचार के केंद्र बन गए हैं। इसके अलावा AI हेतु भारत सरकार की राष्ट्रीय रणनीति सामाजिक-आर्थिक विकास के लिये AI का लाभ उठाने की अपनी प्रतिबद्धता पर बल देती है। स्वचालन के बढ़ने के साथ रोबोटिक्स, मशीन लर्निंग और AI अनुसंधान में अवसर बढ़ रहे हैं।

5. सामाजिक उद्यमिता:

भारत में विविध चुनौतियों के साथ ही इसके समाधान के लिये विभिन्न अवसर उपलब्ध हैं। सामाजिक उद्यमी इस अवसर के क्रम में ऐसे व्यवसायों को अपना रहे हैं जिससे न केवल आर्थिक लाभ हो बल्कि महत्त्वपूर्ण सामाजिक मुद्दों का भी समाधान हो सके। स्वास्थ्य देखभाल नवाचारों से लेकर टिकाऊ कृषि तकनीकों तक, इन परिवर्तनों से यह सिद्ध हो रहा है कि लाभप्रदता और सामाजिक प्रभाव परस्पर चल सकते हैं।

अंतर-विषयक अवसर: उज्जवल भविष्य के लिये विभिन्न क्षेत्रों का विलय

21वीं सदी का तेज़ी से बदलता परिदृश्य इस संदर्भ में विविध दृष्टिकोण की मांग करता है। विविध दृष्टिकोण अपनाने से समस्या-समाधान के साथ नवाचार के संदर्भ में एक समृद्ध और अधिक सूक्ष्म परिप्रेक्ष्य की अनुमति मिलती है। भारत में लोकप्रिय कुछ विविध समन्वित दृष्टिकोण निम्नलिखित हैं:

1. कानून एवं प्रौद्योगिकी: कानूनी क्षेत्र में तकनीक, साइबर सुरक्षा कानून और आगे की राह

भारत का उभरता हुआ सूचना एवं प्रौद्योगिकी (IT) क्षेत्र (जिससे डिजिटल क्रांति आई है) अब देश के कानूनी ढाँचे के साथ समन्वित हो गया है। इस अभिसरण से नये डोमेन को जन्म दिया है:

कानूनी क्षेत्र में तकनीक: कानूनी प्रक्रियाओं और दस्तावेज़ीकरण की बढ़ती संख्या के ऑनलाइन होने के साथ, ऐसे प्लेटफॉर्म की मांग बढ़ रही है जो इन्हें कुशलतापूर्वक प्रबंधित कर सके। कानूनी क्षेत्र में तकनीकी के उपयोग से AI-संचालित कानूनी सहायता और अनुबंध विश्लेषण प्राप्त होते हैं। भारत में लेगोडेस्क तथा वकील सर्च जैसे प्लेटफॉर्म कानूनी सेवाओं को सुलभ और कुशल बना रहे हैं।

साइबर सुरक्षा कानून: डिजिटल परिवर्तन में कई चुनौतियाँ विद्यमान हैं। इसकी प्रतिक्रया में, भारत में साइबर सुरक्षा कानून में विशेषज्ञता वाले पेशेवरों की बढ़ती मांग देखी है, जिससे यह सुनिश्चित होता है कि व्यक्ति एवं व्यवसाय डिजिटल दुनिया में सुरक्षित रूप से व्यवहार कर सकें और नियमों का उल्लंघन करने वालों को कानून द्वारा दंडित किया जाए।

2. सिविल सेवा + डेटा: बिग डेटा के साथ शासन व्यवस्था में सुधार

भारत सरकार, डेटा-संचालित निर्णय लेने की क्षमता को महसूस करते हुए, बिग डेटा विश्लेषणात्मक को शासन और नीति निर्माण में तेज़ी से एकीकृत कर रही है। यह एकीकरण सुनिश्चित करता है:

उन्नत नीति प्रभावकारिता: रुझानों और पैटर्न को समझकर, सरकार सामाजिक आवश्यकताओं का अनुमान लगा सकती है, यह सुनिश्चित करते हुए कि नीतियों का अधिकतम प्रभाव हो।

पारदर्शिता और जवाबदेही: ओपन गवर्नमेंट डेटा (OGD) प्लेटफॉर्म जैसी पहल के साथ, पारदर्शिता बढ़ी है, जिससे नागरिकों को विभिन्न सरकारी विभागों से गैर-संवेदनशील डेटा तक पहुँचने की अनुमति मिल रही है।

आज के सिविल सेवकों के लिये डेटा विश्लेषणात्मक को समझना न केवल एक लाभ है बल्कि एक आवश्यकता है, जिससे यह सुनिश्चित होता है कि उनकी रणनीतियाँ और नीतियाँ भारत जैसे विशाल एवं विविध राष्ट्र की उभरती मांगों के अनुरूप हैं।

3. कानून और सिविल सेवाओं का सम्मिश्रण: कानूनी कौशल के साथ शासन को मज़बूत करना

शासन की जटिल मशीनरी के कियान्वयन के लिये कानून की जटिल समझ की आवश्यकता होती है। यहीं पर कानूनी सलाहकारों और विधायी सहायकों की भूमिकाएँ सामने आती हैं।

सरकार में कानूनी सलाहकार: कानून के सुदृढ़ ज्ञान से लैस ये पेशेवर विभिन्न सरकारी विभागों का मार्गदर्शन करते हैं, यह सुनिश्चित करते हुए कि निर्णय कानूनी रूप से सही हैं और किसी भी कानून का उल्लंघन नहीं करते हैं।

विधायी सहायक: संसद सदस्यों (सांसदों) पर अक्सर कई ज़िम्मेदारियाँ होती हैं। विधायी सहायक, अपनी कानूनी पृष्ठभूमि के साथ, सांसदों को विधेयकों की जटिलताओं को समझने और विधायी कार्यवाही के दौरान सूचित निर्णय सुनिश्चित करने में सहायता करते हैं।

कानून और सिविल सेवाओं का मिश्रण यह सुनिश्चित करता है कि सरकार न केवल कुशलतापूर्वक कार्य करे बल्कि न्याय और धार्मिकता की सीमाओं के भीतर भी काम करे।

निष्कर्ष

संस्कृतियों, परंपराओं और नवाचारों से परिपूर्ण हमारा भारत, कॅरियर के अवसरों के मामले में भी उतना ही विविध है। यह वह समय नहीं है जब कॅरियर पथ को पारंपरिक डोमेन में वर्गीकृत किया गया था। आज का भारत प्रौद्योगिकी और मानविकी के अंतर्संबंध से लेकर कला तथा विज्ञान के गतिशील मिश्रण तक संभावनाओं का एक विशाल विस्तार प्रदान करता है।

कॅरियर चुनने के विकल्प की तलाश कर रहे प्रत्येक व्यक्ति के लिये संदेश स्पष्ट है- पुराने तरीकों पर न चलें, बल्कि व्यवसायों के विशाल महासागर में अन्वेषण करें और उसमें गहराई से उतरें। भारत का गतिशील परिदृश्य व स्वप्न हर महत्त्वाकांक्षा को प्रोत्साहित और पोषित करता है।

विद्यार्थी जिज्ञासा को अपना मार्गदर्शक बनने दें। अपने जुनून को अपने कौशल के साथ समन्वित करें और आप पाएँगे कि भारत में मौजूद असंख्य अवसरों में एक आदर्श कॅरियर आपका इंतजार कर रहा है। याद रखें, अनंत संभावनाओं की इस भूमि में, आपके लिये हमेशा एक स्थान रिक्त है।

संदर्भ:

https://www.drishtiias.com/hindi/to-the-points/paper4/indian-political-thinker-br-ambedkar

https://www.drishtiias.com/hindi/daily-updates/daily-news-analysis/bci-allows-foreign-lawyers-to-practice-in-india

https://www.drishtiias.com/hindi/mains-practice-question/question-2859

https://www.drishtiias.com/hindi/daily-news-analysis/six-years-of-digital-india-programme

https://www.drishtiias.com/hindi/images/dp-books/2nd-ARC.pdf



हाल की पोस्ट


भारत में पर्यावरण संरक्षण से संबंधित कानून
मौत क्यों हो गुज़ारिश की मोहताज
सरोगेसी कानून- 'फिलहाल' सब ठीक नहीं है
लीगल अबॉर्शन : जीवन और चयन के बीच जारी है बहस
क्या आप भी ले सकते हैं बच्चे को गोद?
संविधान का सफर
समान नागरिक संहिता
ज्यूडिशियरी मेन्स की तैयारी कैसे करें?
ज्यूडिशियरी की तैयारी कब से शुरू कर देनी चाहिये?
कॅरियर के विविध विकल्प : कानून, सिविल सेवाएँ और आगे की राह


लोकप्रिय पोस्ट


भारत में पर्यावरण संरक्षण से संबंधित कानून
मौत क्यों हो गुज़ारिश की मोहताज
सरोगेसी कानून- 'फिलहाल' सब ठीक नहीं है
लीगल अबॉर्शन : जीवन और चयन के बीच जारी है बहस
क्या आप भी ले सकते हैं बच्चे को गोद?
संविधान का सफर
समान नागरिक संहिता
ज्यूडिशियरी मेन्स की तैयारी कैसे करें?
ज्यूडिशियरी की तैयारी कब से शुरू कर देनी चाहिये?
कॅरियर के विविध विकल्प : कानून, सिविल सेवाएँ और आगे की राह